Invitation: Teach online for Underprivileged children

Featured

Meera Online Learning Center is an initiative of Navodaya Mission to provide open platform to all who are desirous to impart knowledge by developing videos. Pl mail me if you are willing to teach for poor at navodayamission@gmail.com.

We will invite you to become author so that you yourself manage your post.

post

Invitation to Join Webinar

Webinar on Electronics & Hardware Computing with IOT (Date will be announced soon for next session)

सभी शिक्षक गण, कक्षा 6 से 12 तक के छात्रगण (Hindi and English Medium Both), अभियंता एवं उत्सुक नवयुवक इसका लाभ उठा सकते हैं इस वेबिनार में भाग लेने के लिए कृपया नीचे दिये गए फॉर्म को भरे।

https://docs.google.com/forms/d/e/1FAIpQLSejwq5QSdd8CjAIsWI8um5d314KXD916YYnuipNvwiniZfqdw/viewform?vc=0&c=0&w=1

पृष्ठभूमि

जिस तरह से पिछले कुछ दसकों में इन्फॉर्मेशन टेक्नोलोजी का बोलबाला रहा है, उसी तरह से आने वाले समय में  आर्टिफिसियल इंटेलिजेंस एवं इंटरनेट ऑफ थिंग्स (Artificial Intelligence and IOT) का बोलबाला होगा। जीवन के सभी क्षेत्रों में इसकी उपयोगिता अभी से नजर आने लगी है।  नए टेक्नोलोजी को जानकर  एवं उसमें निपुणता हासिल कर लोगों का एवं खुद का विकास कर सकते हैं। इसी को ध्यान में रखकर एनटीपीसी विंध्याचल की स्वयं सेवी संस्था (EVOICE) नवोदय मिशन ने अपर महाप्रबंधक श्री सोमनाथ बेरा सर के निर्देशन में वेबिनार के माध्यम से “आईओटी के द्वारा इलेक्ट्रॉनिक्स एवं हार्डवेयर कम्प्यूटिंग(Electronics and Hardware Computing with IOT) कोर्स शुरू किया है।  अपर महाप्रबंधक श्री सोमनाथ बेरा सर इस क्षेत्र में काफी कार्य किये हैं और अनेक उपलब्धि हासिल किए हैं। उनकी ख्याति अमेरिका में भी है। सभी शिक्षक गण, कक्षा 6 से 12 तक के छात्रगण, अभियंता एवं उत्सुक नवयुवक इसका लाभ उठा सकते हैं

प्रारम्भ में यह वेबिनार सबके लिए ओपन हैं। फिर 30 प्रतिभागी को चुनकर उनको पूरा कोर्स करने का मौका दिया जाएगा।

कोविड 19 की वजह से नवोदय मिशन गरीब बच्चों के लिए फ्री ट्यूशन नहीं दे पा रही है। लेकिन गरीब बच्चों तक शिक्षा कैसे पहुंचे इसके लिए विभिन्न कक्षाओं के लिए विडियो उपलब्ध करा रही है और इसके लिए “मीरा ऑनलाइन लर्निंग सेंटर” की शुरुआत किया है। जो भी वोलंटियर पढ़ाना चाहे वह अपना विडियो का लिंक इस वेबपेज पर शेयर करके गरीब बच्चों को लाभ दे सकता है।

आईओटी के द्वारा इलेक्ट्रॉनिक्स एवं हार्डवेयर कम्प्यूटिंग(Electronics and Hardware Computing with IOT) कोर्स के बारे में “मीरा ऑनलाइन लर्निंग सेंटर”  पर उपलब्ध रहेंगे।

https://meeralearning.wordpress.com/2020/06/16/webinar-on-electronics-hardware-computing-with-iot/

सभी शिक्षक गण, कक्षा 6 से 12 तक के छात्रगण (Hindi and English Medium Both), अभियंता एवं उत्सुक नवयुवक इसका लाभ उठा सकते हैं इस वेबिनार में भाग लेने के लिए कृपया नीचे दिये गए फॉर्म को भरे।

https://docs.google.com/forms/d/e/1FAIpQLSejwq5QSdd8CjAIsWI8um5d314KXD916YYnuipNvwiniZfqdw/viewform?vc=0&c=0&w=1

Contact Number : 9131539110 (शांता कुमार) … (मैसेज करें)

AIGROEDGE solves with IoT

AIGROEDGE has built a proprietary intelligent farming kit, which includes an Internet of Things (IoT) based sensory device known as ‘KRAASHAK’ and a SaaS-based analytics platform called AgriVitals. 

AIGROEDGE DEVICE

The high-precision sensors conduct quality assessments, detect diseases in plants, predict ambient conditions — sunlight, humidity, moisture, and pH and CO2 levels, etc. — that affect plant growth, and also offer personalised recommendations to farmers based on specific agricultural practices like horticulture, vertical farming, greenhouse farming, and organic farming.

Its competitors include SenseGrass, FarmERP, CropIn, and others, in a precision agriculture market, which is estimated to reach $11.3 billion by 2024, according to IMARC Group.

Electropreneur Park provides the startup mentorship from hardware entrepreneurs, industry connect, and design support from Cadence, NXP semiconductor, ST Microelectronics, etc. along with funding assistance from the government

AIGROEDGE is also supported by Software Technology Parks of India (STPI), which promotes and boosts software exports from India, and the India Electronics and Semiconductor Association (IESA). 

The startup is also a part of RAFTAAR, an agri-business incubator under the Rashtriya Krishi Vikas Yojana (RKVY) scheme managed by the Ministry of Agriculture and Farmers’ Welfare. RAFTAAR funds early-stage startups operating at the intersection of technology, science, and agriculture. 

Read more at: https://yourstory.com/2020/06/meity-backed-deeptech-startup-iot-sensors-monitor-farms-crops?utm_source=Email&utm_medium=YourStoryBuzz&__sta=vhg.uosvpxwmoo.smjskq%7CBQBI&__stm_medium=email&__stm_source=smartech